Archive by Author

Traversing down the memory lane

आज दूर बैठे बैठे घर की बड़ी याद आई। समझ नहीं आया आखिर कैसे रिझाये उजड़े मन को। घर, परिवार, बच्पन। सब जैसे खेलते खेलते ही निकल गया और अब हम सब इतने बड़े हो गये की बस यादें ही बची बाकी हैं| वो यादें जो हम आज कल की पीढ़ियों में शायद खोज भी […]